वास्तुदोष को कैसे करें ठीक

यदि किसी भी भवन का दक्षिण मुखी दोष हो (जैसे भवन का मुख्य द्वार दक्षिण दिशा में खुलता हो), तो द्वार की चौखट के ऊपर बाहर व अंदर दोनों ओर गणेश जी की प्रतिमा लगा देने से यह दोष अपने आप मिट जाता है। गृहस्वामी को दूसरे हफ्ते से ही इसका फल मिलने लगता है। याद रखें-प्रतिमा न ज्यादा बड़ी हो और न ही ज्यादा छोटी होनी चाहिए।

वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर कारोबार मंदा हो, दूकान नहीं चल रही हो फैक्ट्री में उत्पादन घट गया हो, आदि मामलों में व्यवसाय स्थल पर गणेश जी के प्रतिरूप स्वास्तिक के चिहन को ताम्रपत्र में अथवा पूजा की थाली में अंकित करके उसकी नियमित रूप से कार्य आरंभ करने के पूर्व पूजा की जाती है तो निश्चित रूप से उस जगह का उद्धार होगा। यानी ऐसा करने से व्यवसाय में वृद्धि व बरकत होगी।

By News Room