आज से शुरू हो रहा है सावन का पहला सोमवार, ऐसे करें भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न

भगवान शिव का पवित्र सावन का महीना शुरू हो चुका है. भोलेनाथ का प्रिय सावन का महीना 6 जुलाई से 3 अगस्त तक रहेगा. इसके बाद 4 अगस्त से भाद्रपद मास की शुरुआत होगी. सावन के महीने में सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने का खास महत्व माना जाता है. सोमवार के दिन ब्रह्म मुहूर्त से ही भक्त शिव मंदिरों में पहुंच जाते हैं. ऐसे में पूरे सावन महीने में महिलाओं से लेकर पुरुष तक हर कोई भगवान शिव की आराधना में लीन रहते हैं.  हिंदू धर्म में सावन का महीना भगवान शिव की कृपा पाने का महीना माना जाता है. सावन के महीने में शिव भक्त अपनी विशेष मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए सोमवार का व्रत रखते हैं. पुराणों में कहा गया है कि अन्य दिनों के अपेक्षा सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा अर्चना करने से उसका कई गुना लाभ व्यक्ति को मिलता है. आइये आपको बताते है की भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए इस दिन कैसे पूजा करनी चाहिए।

शिवभक्तो को ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके सबसे पहले शिव मंदिर में तांबे के लोटे से जल और दूध शिवलिंग पर अर्पित करना चाहिए , पूजा में गंगाजल का उपयोग जरूर करें इसके बाद चन्दन, अक्षत, पुष्प  भांग,धतूरा और बेलपत्र अवश्य शामिल करे. भगवान शिव को भांग,धतूरा और बेलपत्र बहुत प्रिय है। इस दौरान आप ओम नम: शिवाय का जाप करते रहें. साथ ही धूप दीप जलाकर पूजा करें. इसी के साथ मंदिर में शिव चालीसा और रुद्राष्टक का पाठ करें.शिवजी की पूजा के समय उनके पूरे परिवार अर्थात् शिवलिंग, माता पार्वती, कार्तिकेयजी, गणेशजी और उनके वाहन नन्दी की संयुक्त रूप से पूजा की जानी चाहिए. बता दे अक्सर कुंवारी लड़कियां ये व्रत अपना मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए करती हैं. वहीं सुहागिन महिलाएं अपने पति की सफलता और लंबी आयु के लिए सावन सोमवारी  का पालन करती हैं. कहा जाता है कि इस व्रत के प्रभाव से धन, विद्या, ज्ञान और परिवार में सुख शांति मिलती है.

By