काशी में मंदिर प्रशासन ने हटाई रोक ,बाबा विश्वनाथ को फूल- माला चढ़ाकर प्रसन्न हुए भक्त

कोरोना वायरस के दौरान  देश  भर के सभी धार्मिक स्थलों को भक्तों के लिए बंद कर किया गया था, जिससे की इस महामारी पर नियंत्रण पाया जा सके,  लेकिन अब सरकार ने धीरे-धीरे सभी धार्मिक स्थलों और मंदिरो को खोलना शुरू कर दिया है, हालांकि मंदिरो को खोलने के बाद भी भक्तों को प्रसाद चढ़ाना या मंदिरो में भगवान की प्रतिमा को छूने पर मनाही है । पर अब काशी के विश्व प्रसिद्ध विश्वनाथ मंदिर में भी भक्तों द्वारा फूल -माला चढ़ाए जाने पर लगी रोक को हटा लिया गया है. मंदिर प्रबंधन के इस निर्णय से  न सिर्फ भक्तों, बल्कि फूल-माला बेचने वालो विक्रेताओं में भी प्रसन्ता है।

जानकारी के लिए बता दे की विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में 17 मार्च से ही भक्तों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई थी। खबरों के मुताबिक इसी महीने की सात तारीख से विश्वनाथ मंदिर में भक्तों को पुन: गर्भगृह में प्रवेश के साथ -साथ फूल- माला चढ़ाने की भी अनुमति दे दी गई है। ऐसे में  मंदिर प्रबंधन के इस निर्णय से भक्तों के साथ फूल -माला बेचने वालो में भी खुशी का माहौल है. इस निर्णय से उनके आर्थिक स्थिति में सुधार होगा ,जो कोरोना महामारी में दुकानों के बंद होने के कारण बिल्कुल  अस्त-व्यस्त हो गई थी । शनिवार को श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में छह महीने बाद श्रद्धालुओं  ने माला-फूल अर्पित किए। भक्तों की ख़ुशी के साथ आस-पास की दुकाने भी गुलजार दिखी .

By